दिल्ली-एनसीआर में इस सप्ताह फिर बदलने वाला है मौसम का मिजाज

 दिल्ली-एनसीआर में इस सप्ताह फिर बदलने वाला है मौसम का मिजाज

दिल्ली-एनसीआर में इस सप्ताह एक बार फिर मौसम करवट लेगा। हालांकि इस बार बहुत तेज बारिश नहीं होगी मगर बूंदाबांदी से इन्कार नहीं किया जा रहा है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि इस सप्ताह दो दिनों तक दिल्ली-एनसीआर में हल्की और मध्यम स्तर की बरसात हो सकती है, इसकी प्रबल संभावनाएं है। इस बरसात से मौसम के पारे में थोड़ा बहु बदलाव होगा मगर न्यूनतम और अधिकतम तापमान में बहुत अधिक प्रभाव नहीं पड़ेगा।

मौसम का पारा अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 29 एवं 14 डिग्री रह सकता है। विज्ञानियों का कहना है कि बुधवार और बृहस्पतिवार को मौसम में बदलाव होगा। इस बरसात के बाद शुक्रवार- शनिवार को आसमान साफ हो जाएगा। इससे पहले पिछले सप्ताह भी बारिश की संभावना जताई गई थी, लेकिन इसका असर दिल्ली-एनसीआर में नहीं दिखा था। मगर इस बार ऐसा होने की प्रबल संभावना जताई जा रही है।

मौसम अगले 24-48 घंटे के बीच फिर बदलने वाला है लेकिन इससे गर्मी पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा, इसका बढ़ना लगातार जारी रहेगी। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, मौसमी उतार चढ़ाव के बीच दो दिन बाद यानी बुधवार को दिल्ली और एनसीआर में मौसम एक बार फिर करवट लेने जा रहा है।

एक नए पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के चलते अगले 24 से 48 घंटों के दौरान यानि बुधवार और बृहस्पतिवार को मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा। इसके चलते बुधवार और बृहस्पतिवार को आसमान में बादल छाए रहेंगे। दूसरी ओर भारतीय मौसम विज्ञान विभाग और स्काईमेट वैदर की ओर से ये कहा गया है कि इस बार अप्रैल लेकर जून तक भीषण गर्मी पड़ने का अनुमान है। यदि इस दौरान ऐसी हल्की बूंदाबांदी होती रही तो आसमान में जमा धूल के कण नीचे बैठ जाएंगे। वायु प्रदूषण से लोगों को राहत मिलेगी।

मौसम विज्ञानियों के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद, लद्दाख, जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के ऊपरी इलाकों में हल्की बारिश और हल्का हिमपात हो सकता है। दक्षिण-पश्चिम मध्य प्रदेश, उत्तरी मध्य महाराष्ट्र के आसपास के हिस्सों, तमिलनाडु, केरल और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के दक्षिणी हिस्सों में छिटपुट हल्की बारिश संभव है। 24 घंटे के बाद राजस्थान के पूर्वी हिस्सों और पूर्वी गुजरात के अलग-अलग हिस्सों में छिटपुट बारिश की गतिविधियां संभव हैं।

वैसे इस साल अब तक मौसम में दो बदलाव देखने को मिले उससे कई पुराने रिकार्ड टूट ही चुके हैं, बरसात और ठंड ने अपने ही पुराने कई रिकार्ड तोड़ दिए हैं। अत्यधिक बरसात से दिल्ली-एनसीआर में लोगों का क्या हाल हुआ वो किसी से छिपा नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.